To The Point Shaad

साहित्य दर्पण

ओशो….शून्य से शिखर तक

ओशो…..आज11 दिसम्बर जन्म दिन शायद इक तारीख हैउनके जन्म की वो तो इक विचार हैजीवन के दर्पण पे जो जान गया वो ही समझ गया इक प्रतिभा इक अवसर हम सब में है आओ शून्य से शून्य तक के सफरपे चले या रुके साक्षी भाव खुद से खुदा तकसब कुछ हम में हैकुछ भी अलग …

ओशो….शून्य से शिखर तक Read More »

MANKAHI :-गुरतेज के संग

ज़िन्दगी में खुशियां देनी पड़ती है तब जाकर खुशी मिलती है एक शब्द है जो खुशियों की चाबी है जिसको बोलने से सुनने वाले के चहेरे पर मुस्कान आती है Khushiyon ka universal password- Thanks

नींव MANKAHI गुरतेज सिंह

नींव NEENV किसी भी इमारत का आधार उसकी नींव होती है । उसके बल पर ही सारी इमारत खड़ी रहती है । हमारे घर और समाज की नींव हमारे माँ बाप और बड़े बजुर्ग है, उनका ख़्याल रखिए, अगर यह नींव सलामत रहेगी तो हम भी रहेंगे

MANKAHI:-चार दीवारे… गुरतेज सिंह

गुरतेज सिंह : चार दीवारें : – घर की चार दीवारों में बस कुछ कुछ लोग ही नही, कितने अधमरे ख़्वाब, अधूरी ख्वाहिशें और टूटे सपने भी रहते हैं ।। आंखों में बिखरा हुआ टूटा सा कितना कुछ लेके घूमती है घर की औरतें, कभी उनसे भी दिल भर के बातें कीजिए अच्छा लगेगा

“हामिद का चिमटा..”

“हामिद का चिमटा” अगर मुंशीं प्रेम चन्द की कहानी का किरदार नन्हा सा हामिद, भूखा प्यासा रहकर, और अपनी खुशियों को त्याग कर, अपनी दादी की परेशानी दूर करने के लिए अपना एक मात्र रुपया त्याग सकता है तो सोचिये आखिर क्यों आज हम अपनी आने वाली पीढ़ी को हामिद जैसी त्याग और स्नेह की …

“हामिद का चिमटा..” Read More »

साहित्य दर्पण :-आजादी शर्तो वाली….

“आज़ादी शर्तों वाली”(freedom with terms &conditions )कुछ लोगों को लगता है कि आज के समाज में औरत और मर्द बराबर है़ं, उनके पास एक जैसे अधिकार हैं,एक जैसी सुविधाएं हैं इतना ही नहीं उन्हें यह भी लगता है कि आज की औरत पूरी तरह से आजाद है वह कहीं भी आ जा सकती है, मगर …

साहित्य दर्पण :-आजादी शर्तो वाली…. Read More »

पंजाब की दो बहनें संगीत जगत में नाम चमकना चाहती है

कड़ी मेहनत ओर पूरी ईमानदारी व लगन से जुटा है पूरा परिवार पिता ने देखा सपना ,खुद दे रहे है अपनी बेटियों को संगीत की शिक्षा Suff SISTER. से मिलिएTO THE POINTपर ओर कहिए ज़िन्दगी ज़िंदाबाद

मानवता के कल्याण हेतु अरदास के साथ रामलीला के कलाकारों का सम्मान …

वरच्युस क्लब ने विजय दशमी पर्व पर वरच्युस भवन में श्री अखंड रामायण के पाठ का भोग डाला। इससे पहले आढ़ती अशोक सिंगला व प्रवीण सिंगला ने मुख्य पूजन करवाया। इस दौरान प्रभु राम से कोरोना महामारी से निजात दिलाने व सम्पूर्ण मानवता के कल्याण के लिए प्रार्थना की गई। इस अवसर पर डबवाली में …

मानवता के कल्याण हेतु अरदास के साथ रामलीला के कलाकारों का सम्मान … Read More »