To The Point Shaad

MANKAHI:-चार दीवारे… गुरतेज सिंह

गुरतेज सिंह :

चार दीवारें : – घर की चार दीवारों में बस कुछ कुछ लोग ही नही, कितने अधमरे ख़्वाब, अधूरी ख्वाहिशें और टूटे सपने भी रहते हैं ।।

आंखों में बिखरा हुआ टूटा सा कितना कुछ लेके घूमती है घर की औरतें, कभी उनसे भी दिल भर के बातें कीजिए अच्छा लगेगा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *