To The Point Shaad

साहित्य दर्पण :-आजादी शर्तो वाली….

“आज़ादी शर्तों वाली”
(freedom with terms &conditions )
कुछ लोगों को लगता है कि आज के समाज में औरत और मर्द बराबर है़ं, उनके पास एक जैसे अधिकार हैं,एक जैसी सुविधाएं हैं इतना ही नहीं उन्हें यह भी लगता है कि आज की औरत पूरी तरह से आजाद है वह कहीं भी आ जा सकती है, मगर वास्तव में ऐसा नहीं है, हां हम मानते हैं कि औरत को आजादी मिली है लेकिन यह आजादी भी शर्तों वाली है— आइए आज सुने के कैसी-कैसी हैं यह शर्तें–
जसविंदर कौर अमृतसर

6 thoughts on “साहित्य दर्पण :-आजादी शर्तो वाली….”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *